Jul 11, 2017

कार्यालय आदेश क्रमांक 623

No automatic alt text available.

मण्डल रेल प्रबन्धक राहत कोष, का माह जून-17 का लेखा-जोखा ।

No automatic alt text available.

WHEN WILL DA REACH 25% ?

Employee News & 7th CPC: IT exemption ceiling for gratuity to be doubled to...

Employee News & 7th CPC: IT exemption ceiling for gratuity to be doubled to...: A bill that will double the ceiling for tax exempt gratuities from the current Rs 10 lakh to Rs 20 lakh may be passed in the monsoon ses...

अभी अतिरिक्त सीटों की बुकिंग नहीं, चार्टिंग में बटेगा बर्थ

एलएचबी कोच के साथ 12 जुलाई से चलने वाली विक्रमशिला एक्सप्रेस की अतिरिक्त सीटों की आरक्षण सिस्टम में फीडिंग अभी नहीं होगी। मसलन इन सीटों का लेखा-जोखा रेलवे के ऑनलाइन सिस्टम में नहीं होगा। कहा जा रहा है कि चार्टिंग के दौरान अतिरिक्त सीटों का आवंटन वेटिंग और आरएसी वाले यात्रियों को किया जाएगा। यह मुख्यालय का निर्देश है। रेलकर्मी बता रहे हैं कि तकनीकी तौर पर जबतक तीनों रैक में एलएचबी कोच नहीं लग जाती है तबतक अतिरिक्त सीटों की फीडिंग नहीं हो सकती है। ऐसे में इन सीटों की बुकिंग ऑनलाइन आरक्षण सेवा या काउंटर पर नहीं हो सकेगी। अलबत्ता चार्टिंग से पहले उन खाली सीटों पर आरएसी और वेटिंग लिस्ट के यात्रियों को बर्थ आवंटित की जाएगी।
Source - Live Hindustan

चक्रधरपुर रेल मंडल में नौकरी छोड़ो-नौकरी पाओ स्कीम



चक्रधरपुर रेल मंडल में जल्द ही नौकरी छोड़ो, नौकरी पाओ स्कीम शुरू होगा। रांची, खड़गपुर व आद्रा रेल मंडल के कर्मचारियों को यह सुविधा पहले से मिल रही है। गार्डेनरीच में दक्षिण-पूर्व जोन मेंस कांग्रेस के महासचिव एसआर मिश्रा ने यह मामला उठाया था। इससे शुक्रवार को चक्रधरपुर मुख्यालय के लिए पत्र जारी हुआ है। जुलाई के अंतिम सप्ताह में रेल कर्मचारियों से आवेदन मांगा जा सकता है। चार वर्षों बाद सुविधा : चक्रधरपुर मंडल मेंस कांग्रेस के संयोजक शशि रंजन के अनुसार रेल कर्मचारियों को चार वर्षों बाद यह सुविधा मिलेगी। रेल मंडल में 2013 जुलाई से किसी को नौकरी छोड़ो-नौकरी पाओ का लाभ नहीं मिला है। छह सौ कर्मचारी करेंगे आवेदन : 2017 में संरक्षा से जुड़े छह सौ से ज्यादा रेलकर्मी नौकरी छोड़ो-नौकरी पाओ स्कीम का आवेदन दे सकते हैं। टाटानगर, राउरकेला, बहलदा, चाईबासा, बंडामुंडा, सीनी व डांगुवापोसी के ज्यादा कर्मचारी होंगे। 118 आवेदन लंबित : नौकरी छोड़ो नौकरी पाओ के लिए 118 गेंगमैन का आवेदन पहले से आया है। इनमें कई लोगों के सेवानिवृत्त होने की सूचना है। अभी 2017 के लिए प्रक्रिया शुरू होगी। बीते वर्षों के लिए आदेश नहीं हुआ है। संरक्षा कर्मचारी को लाभ : रेलवे में गैंगमैन, कीमैन, खलासी, ट्रैकमैन व प्वाइंटमैन कर्मचारियों को इसकी सुविधा मिलती है। इसमें 51 से 55 वर्ष तक उम्र व संरक्षा कार्य में 15 वर्ष नौकरी तक काम नौकरी जरूरी है। आंदोलन का असर : मेंस कांग्रेस के नेता नौकरी छोड़ो नौकरी पाओ स्कीम शुरू कराने के लिए शुरू से धरना-प्रदर्शन कर डीआरएम से लेकर रेल जीएम को ज्ञापन दे रहे थे। जबकि जोनल एवं मंडल की बैठक में मुद्दा उठाते थे।
Source - Live Hindustan

शिवभक्तों के लिए सावन स्पेशल ट्रेन शुरू

टाटानगर स्टेशन से जसीडीह के लिए सावन की पहली सोमवारी से स्पेशल ट्रेन का आवागमन शुरू हो गया। दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन से 27 जून को यह आदेश टाटानगर आया था। श्रद्धालुओं की सुविधा में विशेष कोच की व्यवस्था की गई है। कोल्हान व पश्चिम बंगाल के शिव भक्तों के लिए सावन स्पेशल ट्रेन टाटा व जसीडीह के बीच 12 स्टेशनों पर रुकेगी, जिससे ज्यादा से ज्यादा कावंरियों को रेलवे की व्यवस्था का लाभ मिले। सप्ताह में पांच दिन अप-डाउन : सावन स्पेशल ट्रेन सप्ताह में पांच दिन अप-डाउन करेगी। टाटानगर से मंगलवार व शुक्रवार को जसीडीह स्टेशन के लिए ट्रेन नहीं खुलेगी। वहीं, जसीडीह से ट्रेन बुधवार व शनिवार को टाटानगर के लिए नहीं खुलेगी।

Eateries at railway station to guard rates in new plans

Malls, restaurants and theatres may in the near future come up at a railway sation near you, but the government will ensure that the eateries do not burn a hole in your pocket, an official said today.

Under the programme, 400 railway stations across the country will be given an image makeover and provided with world-class passenger amenities. (PTI)

Railways to install bar-coded automatic flap gates at stations

According to the system design, an encrypted QR code will be printed on unreserved tickets for the designated station where passengers need to enter or exit through these gates after validating their tickets. The automatic flap gate system can handle faster entry or exit of passengers during the rush hour.
Brar station has been chosen for conducting the trial (Representational Image)

The Railways will go the Metro way and install automatic flap gates with bar code scanners at stations to facilitate faster ticket checking and ease the pressure on ticket examiners and collectors.

मरूधर व साबरमती एक्सप्रेस में 21 जुलाई से सेकेंड क्लास बोगी लगेगी

मरुधर एक्सेस में 21 जुलाई से सेकेंड क्लास की बोगी लगेगी। इससे काफी यात्रियों को कंफर्म टिकट मिलने से राहत मिलेगी। आईआरसीटीसी वेबसाइट पर अतिरिक्त बोगी को अपडेट कर दिया गया है। ताकि यात्री टिकट बुक करा सके। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल की ओर से वाराणसी से जोधपुर के लिए मरुधर एक्सप्रेस चलाई जाती है। ट्रेन संख्या 14865 मरुधर एक्सप्रेस गुरुवार को वाया प्रतापगढ़, 14863 मंगलवार, शुक्रवार व रविवार को वाया सुलतानपुर और गाड़ी संख्या 14853 सोमवार, बुधवार व रविवार को वाया फैजाबाद होकर संचालित होती है। यात्रियों की यह पसंदीदा ट्रेन होने से इस ट्रेन में कंफर्म टिकट मिलना आसान नहीं रहता है। ऐसे में यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने सेकेंड क्लास की बोगी लगाने का फैसला लिया है।

Berth too high, platform too far: It’s time to refashion Indian Railways into a disabled friendly network

Life for persons with disabilities is not easy in any case. It becomes even more difficult when the environment is unsympathetic to their needs. Recent cases of wheelchair-bound para-athlete Suvarna Raj and 100% blind Vaibhav Shukla bring this out very vividly.

If Indian Railways (IR) had made a sincere effort to provide equal access to persons with disability as they are required to do by the 22-year-old Disabilities Act then Suvarna would not have had to sleep on the floor of the compartment and Vaibhav would not have missed his entrance examination at Delhi University.

Indian Railways: Lower Berth In 3AC Coach To Be Reserved For Divyangs



A senior Railway Ministry official said that a lower berth in 3AC coach will be reserved for 'Divyangs' in trains and the necessary software is being readied for this process.

Indian Railways (File Photo)New Delhi, July 10: Indian Railways has been actively pursuing to provide world-class amenities to its passengers. In what is believed to be a historic move, the differently-abled passengers, whom Prime Minister Narendra Modi refer to as ‘Divyangs’ will not face any problem in getting a lower berth in Third AC coaches. The Indian Railways has fixed quota for ‘Divyangs’ in 3AC of mail and express trains to make their journey hassle-free.